शरीर की गर्मी दूर करने के 16 देसी उपाय | Garmi Dur karne ke Upay

Home » Blog » Seasonal Care » शरीर की गर्मी दूर करने के 16 देसी उपाय | Garmi Dur karne ke Upay

शरीर की गर्मी दूर करने के 16 देसी उपाय | Garmi Dur karne ke Upay

शरीर की गर्मी को कम करने के आयुर्वेदिक नुस्खे :Ayurvedic Tips to Reduce the Body Heat

गर्मी के मौसम में जब सिर पर तेज धूप पड़ती है और गर्म हवाएं चलती हैं तब अधिक गर्मी और जलन होने से व्यक्ति बैचेन हो जाता है। हाथ-पैर और आंखों में जलन होती है। मुंह सूखना, गला सूखना, बार-बार प्यास लगना जैसे लक्षण उत्पन्न होते हैं। शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है।
ऐसी स्थिति में रोगी को शान्ति नहीं मिलती है। इस तरह के रोग अधिक गर्मी के कारण या लू लगने के कारण से होते हैं।

गर्मी दूर करने के देसी घरेलु नुस्खे : Garmi Dur karne ke Nuskhe in Hindi

१) गूलर :
• पके हुए कीड़े रहित गूलरों में पिसी हुई मिश्री डालकर सुबह के समय खाने से गर्मी में ठंड़क मिलती है।
• गूलर के दूध में शक्कर डालकर पीने से गर्मी से मुक्ति मिलती है।
२) शर्करा : गर्मी के दिनों में शरीर की गर्मी व जलन दूर करने के लिए गम्भारी के फल का गूदे का ठंड़ा शर्बत बनाकर उसमें शर्करा मिलाकर पीने से लाभ होता है।
३) रतनपुरुष : गर्मी के मौसम में गर्मी से बचने के लिए 5 से 10 ग्राम रतनपुरुष की जड़ और मिश्री को मिलाकर रोजाना सुबह-शाम पानी के साथ लेने से मन में शान्ति और शरीर में शीतलता का अनुभव होता है।
४) गुलकन्द :
• 5 से 20 ग्राम गुलकन्द (गुलाब के पत्तियों से बना) के साथ मिश्री मिलाकर शर्बत बनाकर पिलाने से शरीर की गर्मी दूर हो जाती है और शान्ति मिलती है। शरीर में निखार भी आता है। इसलिए खासकर बच्चों एवं स्त्रियों के लिए यह बहुत अच्छा होता है।
• 10 ग्राम गुलकन्द को जल के साथ मिलाकर पीने से शरीर की गर्मी दूर हो जाती है।
• 10 ग्राम गुलकन्द को शहद के साथ मिलाकर पीने से अधिक गर्मी लगना दूर हो जाता है।
५)नींबू Lemon: गर्मी के मौसम में अधिक प्यास लगने पर जंभारी या कागजी नींबू के रस को मिलाकर बना शर्बत बहुत ही उपयोगी होता है। इससे शरीर की गर्मी भी दूर होती है।
६) केवड़ा : गर्मी से पैदा रोगों पर केवडे़ के पत्तों के रस में जीरा पीसकर चीनी मिलायें और सात दिनों तक पीते रहें।
७) अनार Pomegranate: शक्कर की चाशनी में अनारदानों का रस डालकर कपडे़ से छान लें। आवश्यकता होने पर 20 मिलीलीटर शर्बत, 20 मिलीलीटर पानी के साथ पी लें। इससे उष्णपित्त नष्ट हो जाता है।

इसे भी पढ़े :
आंतरिक गर्मी को तुरंत शांत करते है यह 10 घरेलु उपचार |
लू लक्षण तथा बचाव के उपाय
गर्मी और लू से बचाव के 15 सबसे असरकारक देसी नुस्खे

८) नारियल Coconut: नारियल के तेल में पानी को अच्छी तरह मिलाकर सिर व पैरों के तलुवों पर मालिश करने से शरीर की गर्मी धीरे-धीरे शान्त होती है।
९) टमाटर tomatoes: जिन सब्जियों का स्वभाव गर्म होता है, उनमें टमाटर मिलाकर खाने से उनका स्वभाव ठंड़ा हो जाता है। टमाटर को गर्मी में भी खाएं। कच्चा टमाटर सेवन करने से त्वचा की खुश्की समाप्त होती है। यह गर्मी को दूर करता है।
१०) अरीठे : अरीठे का फेन दिन में दो-चार बार लगाकर मलना चाहिए। इसके बाद गरम पानी से धो लेना चाहिए।
११) सौंफ Fennel:
• गर्मी अधिक लगने पर 2 से 4 ग्राम सौंफ को पीसकर, पानी में घोटकर मिश्री के साथ मिलाकर बार-बार पिलाने से गर्मी अधिक नहीं लगती है। इसके अलावा इसको पीने से मल-मूत्र की जलन आदि दूर हो जाती है।
• जब गर्मी अधिक लगे तो सौंफ पीसकर सिर पर, ललाट पर लेप करने से सिर का दर्द, सिर की गर्मी और सिर के चक्कर आदि दूर हो जाते हैं।
१२) चंदन Sandalwood: गर्मी के दिनों में शरीर की गर्मी दूर करने के लिए 20 ग्राम चंदन घिसकर, मिश्री मिलाकर, शर्बत बनाकर पीने से मानसिक शान्ति मिलती है।
१३) इमली tamarind : अगर किसी को गर्मी के कारण या किसी बीमारी के कारण प्यास अधिक लगे तो उसको इमली के बीजों को पीसकर 1 से 3 ग्राम प्रतिदिन 2 से 3 बार पानी के साथ पिलायें। इससे प्यास कम लगेगी और शरीर को नमी के कारण गर्मी कम लगती है।
१४) कतीरा : अगर शरीर को अधिक गर्मी महसूस हो तो उसके लिए कतीरा को पानी में भिगोकर मिश्री मिले शर्बत के साथ घोटकर सुबह-शाम सेवन करने से कम गर्मी लगती है।
१५) संतरा Orange : संतरे का रस 20 से 40 मिलीलीटर पानी में सही मात्रा मिलाकर पीने से शरीर को कम गर्मी लगती है। इससे शरीर को कम गर्मी लगने के अलावा सिर का दर्द भी बन्द हो जाता है।
१६) आंवला Amla : गर्मी में ऑवले का शर्बत पीने से बार-बार प्यास नहीं लगती तथा गर्मी के रोगों से बचाव होता है।

विशेष : अच्युताय हरिओम फार्मा के शरीर की गर्मी दूर कर शीतलता व आरोग्य देने वाले स्वदेशी उत्पाद
1)अच्युताय हरिओम गुलकंद(Achyutaya Hariom Gulkand)
2) अच्युताय हरिओम ब्राह्मी शर्बत (Achyutaya Hariom Brahmi Sharbat)
3) अच्युताय हरिओम पलाश शर्बत(Achyutaya Hariom Palash Sharbat)

प्राप्ति-स्थान : सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों( Sant Shri Asaram Bapu Ji Ashram ) व श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सेवाकेंद्र से इसे प्राप्त किया जा सकता है |

2018-03-14T16:23:25+00:00 By |Health Tips, Seasonal Care|0 Comments

Leave A Comment

16 − 13 =