प्राचीन आयुर्वेद के घरेलू नुस्खे और उपचार | Gharelu Nuskhe in Hindi

[1] हृदय रोग के घरेलू नुस्खे :

  1. अगर छाती के बायीं ओर दर्द उठता है और सांस लेने में कठिनाई महसूस होती है, पसीना आने लगता है, तो दूध में लहसुन पकाकर पीएं, कुछ दिनों तक लगातार इस दूध के सेवन से दर्द आदि की शिकायतें दूर हो जाती हैं और ओपन हार्ट सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ती।
  2. अर्कगुलाब 120 मि.ली., अर्क केवड़ा 60 मि.ली. लेकर इसमें किशमिश के 40 दाने मिट्टी के बर्तन में रात को पानी में भिगो दें। सुबह शौच क्रिया से पहले किशमिश चबाकर ऊपर से गुलाब-केवड़ा अर्क वाला पानी पिएं। यह 60 दिन तक लगातार करें । हृदय रोग में बहुत लाभकारी है।
  3. प्रभाकरवटी की एक-एक गोलीपीसकर सुबह शाम शहद के साथया गरम पानी के साथ सेवन करने से सभी प्रकार के हृदय रोगों को नष्ट कर देती है।

( और पढ़े – ह्रदय रोग के लक्षण कारण बचाव और उपचार )

[2] हाई कोलेस्ट्रॉल के घरेलू नुस्खे :

  1. अर्जुन की छाल और अकरकरा को बराबर लेकर बारीक चूर्ण बना लें। आधा चम्मच सुबह शाम पानी से लेने पर घबराहट, हृदय की धड़कन, कोलेस्ट्रॉल आदि में लाभ होता है।
  2. शहद और दालचीनी के चूर्ण की बराबर मात्रा में ब्रेड या रोटी पर रोजाना लगाकर नाश्ते में लें। इससे कोलेस्ट्रॉल खराब का स्तर घटेगा और अच्छे कास्तर बढ़ेगा।
  3. धनिया दाना 250 ग्राम, जीरा 250 ग्राम लेकर कूट पीसकर बारीक चूर्ण तैयार कर लें। छह ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम खाली पेट सेवन करें। इसके आगे-पीछे एक घंटे तक कुछ भी सेवन न करें । अनेकों बार परीक्षित है। अचूक नुस्खा है।

( और पढ़े – कोलेस्ट्रॉल कम करने के 13 घरेलू उपाय )

[3] उच्च रक्तचाप के घरेलू नुस्खे :

  1. गोमूत्र ताजा चार चम्मच सुबह के समय प्रतिदिन पीने से उच्च रक्तचाप का रोग ठीक हो जाता है।
  2. उच्च रक्तचाप के रोगियों को प्रतिदिन भोजन के बाद पके हुए पपीते का अवश्य ही सेवन करना चाहिये।
  3. जटामांसी, अश्वगंधा, सर्पगंधा तीनों को समान से लेकर चूर्ण बना लें। 5 ग्राम की मात्रा में सुबह शाम चंदन के शर्बत के साथ लेने से उच्च रक्तचाप में लाभ होता है।

( और पढ़े – उच्च रक्तचाप का सरल आयुर्वेदिक उपचार )

[4] सफेद दाग के घरेलू नुस्खे :

  1. काले उड़द पीसकर सफेद दागों पर दिन में तीन चार बार लगाने से दागों में त्वचा का मूल रूप आने लगता है।
  2. एक चम्मच चूना और 5 ग्राम हरताल दोनों को एक साथ पीसकर नीबू के रस में मिलाकर लगभग दो माह तक सफेद दागों पर लगाएं।
  3. गंधक का चूर्ण 10 ग्राम, जवाखार 10 ग्राम, बावची का चूर्ण 10 ग्राम, तीनों को तिल्ली के तेल में मिलाकर त्वचा पर लगाएं।

( और पढ़े – सफेद दाग का कारण व आयुर्वेदिक इलाज )

[5] सोरियासिस के घरेलू नुस्खे :

  1. सूर्योदय से पहले टहलते हुए नीम के लगभग 10 पत्ते चबाकर खाएं तथा पत्तागोभी का सूप सुबह शाम पीने से सोरियासिस में लाभ होता है।
  2. 10 नग बादाम लेकर उसका महीन चूर्ण बना लें। इसे पानी में उबालें। यह दवा रोग क्षेत्र पर लगाएं और रात भर लगी रहने के बाद सुबह शाम पानी से धोलें।
  3. किशोरगुगुल की 2-2 गोली सुबह शाम पानी के साथ लें। सारिवाद्यारिष्ट 4-4 चम्मच समान मात्रा में पानी मिलाकर भोजन के बाद सुबह शामलें। त्रिफला चूर्ण 5 ग्राम रात को सोते वक्तगर्म पानी के साथ लें।

( और पढ़े – सोरायसिस के घरेलू उपचार )

[6] माईग्रेन (अधकपारी) के घरेलू नुस्खे :

  1. सूरज निकलने के समय नाक द्वारा मीठा दूध सूंघना चाहिए। इससे सिर की तीव्र पीड़ा शांत होती है।
  2. प्रतिदिन प्रात:काल उठते ही हाथ-मुंह धोकर भुने हुए चने खूब चबाचबा कर खाएं। केवल 2-3 दिन के प्रयोग सेही रोग दूर होजाता है।
  3. नौशादर पीसी हुई 5 ग्राम की मात्रा में सूर्योदय से एक घंटा पहले जल के साथ प्रयोग करने से आधा शीशी तथा सिरदर्द ठीक हो जाता है।

( और पढ़े – आधे सिरदर्द के रामबाण उपाय )

[7] जोड़ों का दर्द के घरेलू नुस्खे :

  1. मेथीदाना एक चम्मच रातभर भिगोकर रखें । सुबह पानी निथारकर मेथी के दाने चबाकर खाएं। रात को सोने से पहले गुनगुने दूध में हल्दी मिलाकर पीएं।
  2. दाल चीनी का पाउडर डेढ़ चम्मच, शहद एक चम्मच गर्म पानी, एक कप में डालकर सुबह खाली पेट पीने से मोटापा भी घटता है और जोड़ों के दर्द में आराम आ जाता है।
  3. स्पेशल मालिश तेल (अच्युताय हरिओम फार्मा) की जोड़ों पर मालिश करें । बड़ा ही लाभदायक तेल है। अनुभूत है।

( और पढ़े – जोड़ों का दर्द दूर करेंने के 17 घरेलू उपाय )

[8] थायराइड ग्रंथि के घरेलू नुस्खे :

  1. दूध में हल्दी डालकर खूब उबालें। ठंडा होने पर प्रतिदिन पीने से हाइपर थायराइड में लाभ होता है।
  2. अखरोट और बादाम का सेवन हाइपोथायराइड में ज्यादा फायदेमंद है। इसके साथ 200 ग्राम दूध गर्म करके एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण मिलाकर सोते समय सेवन करें।
  3. सोंठ, छोटी पीपल, काली मिर्च (त्रिकुटा) इनको समान मात्रा में मिलाकर पीस लें। इसकी आधा-आधा चम्मच मात्रा सुबह-शाम पानी से सेवन करें । थायराइड में लाभदायक है । यह योग दमा में भी लाभ करता है।

( और पढ़े – थायराइड का आयुर्वेदिक घरेलू उपचार )

[9] मधुमेह (डायबिटीज) के घरेलू नुस्खे :

  1. कलौंजी का तेल 5-5 बूंद बताशे में डालकर सुबह-शाम सेवन करने से मधुमेह नियंत्रित हो जाता है। यह नुस्खा भी परीक्षित एवं अनुभूत है।
  2. गिलोय पत्ते, तना, बिल्वपत्र, दारुहल्दी, हरड़,बहेड़ा, आंवला 6-6 ग्राम लेकर कूट पीसकर 125 मि.ली. पानी में रात को खूब मसल छानकर इसकी आधी मात्रा सुबह बाकी आधी मात्रा शाम को बसंत कुसुमाकर रस (वटी) की मात्रा के साथ सेवन करें। रामबाण है।
  3. मेथीदाना 300 ग्राम, हल्दी 50 ग्राम, गिलोय 150 ग्राम, दालचीनी 50 ग्राम, तेजपत्र 50 ग्राम, जामुन गुठली 100 ग्राम सभी को लेकर कूट पीस कर चूर्ण बना लें । एक-एक चम्मच दिन में तीन बार गर्म पानी से लें।

( और पढ़े – मधुमेह के 25 रामबाण घरेलू उपचार )

[10] मोटापा के घरेलू नुस्खे :

  1. सेव और गाजर समान मात्रा में कद्दूकस कर सुबह भूखे पेट 200 ग्राम की मात्रा में खाने से मोटापा कम होता है ।
    ध्यान रखें-इसका सेवन करने के दो घंटे बाद तक कुछ नहीं खाना चाहिये।
  2. एक चम्मच मेथी दाने रात को एक गिलास पानी में भिगो दें। सुबह खाली पेट भीगी हुई मेथी के दाने चबाकर गरम पानी पी लें।मेथी के निथरे हुए पानी को उबालें और शहद के साथ चाय की तरह पीएं। इसे पीने के घंटे भर बाद ही कुछ खाए पीएं। यह न सिर्फ वजन कम करने, गैस, कब्ज, एसिडिटी, चर्बी घटाने में मदद करती है, डायबिटीज व जोड़ों के दर्द के रोगियों के लिए मेथी का उपयोग बहुत ही लाभदायक होता है।
  3. 1.नीबू का रस 25 ग्राम और करेला का रस 15 ग्राम मिलाकर कुछ दिनों तक नियमित लेने से मोटापा कम होता है।

( और पढ़े – मोटापा कम करने के सफल 58 घरेलू  उपाय )

(अस्वीकरण:दवा,उपाय व नुस्खों को वैद्यकीय सलाहनुसार उपयोग करें)

आयुर्वेद की प्राचीन पुस्तकें पीडीएफ डाउनलोड करें – Ayurveda PDF in Hindi Free Download