ब्रह्मा रसायन के फायदे घटक द्रव्य उपयोग और दुष्प्रभाव | Brahma Rasayana Benefits & Side Effects in Hindi

ब्रह्मा रसायन क्या है ? Brahma Rasayana in Hindi

चरक संहिता में ‘ब्रह्मा रसायन’ योग के बारे में विवरण पढ़ने को मिलता है। इस विवरण के आधार पर अन्य आयुर्वेदिक ग्रन्थों, जैसे रस योग सागर, आयुर्वेद सार संग्रह, रसतन्त्र सार व सिद्ध प्रयोग संग्रह आदि में भी इस योग के बारे में विवरण मिलता है। इस योग की प्रमुख विशेषता यह है कि यह सिर्फ़ शरीर को ही बल नहीं देता बल्कि मस्तिष्क को भी सशक्त करता है तथा स्मरण शक्ति को बढ़ाता है।

इस योग के निर्माण की विधि, विभिन्न ग्रन्थों में अलग-अलग मिलती है फिर भी वर्तमान में, जन सामान्य को समझने में सरल रहे और निर्माण किया जा सके, ऐसी विधि विस्तार से प्रस्तुत की जा रही है। कई निर्माता इसी विधि से इसे बना रहे हैं।

ब्रह्मा रसायन के घटक द्रव्य : Brahma Rasayana Ingredients in Hindi

इसके घटक द्रव्य तीन भाग में लिये जाते हैं। –

प्रथम भाग (मुख्य द्रव्य)-
ताज़ी हरड़ पूरी तरह से पकी हुई एक किलो, पूरा पका हुआ ताज़ा आंवला एक किलो, दानेदार शक्कर चार किलो चार सौ ग्राम और देशी घी ढाई सौ ग्राम ।

द्वितीय भाग (काढ़ा द्रव्य) –
शालपर्णी, पृष्ठपर्णी, छोटी कटेरी, बड़ी कटेरी, गोखरू, बेल छाल, अग्निमन्थ (अरणी) छाल, अरलू छाल, गम्भारी छाल, पाढल छाल, पुनर्नवा, मुद्गपर्णी, माषपर्णी, बला, एरण्ड, जीवक, ऋष्भक, मेदा, शतावरी, जीवन्ती, शर (नरकट), ईख, दर्भ, कुश, शाली धान्य- उपर्युक्त 25 द्रव्य समान मात्रा में 50-50 ग्राम ले कर जौ कुट कर लें।

तृतीय भाग (प्रक्षेप द्रव्य) –
ब्राह्मी, पीपल, शंखपुष्पी, नागरमोथा, बड़ा मोथा (नदी किनारे का), वायविडंग, सफ़ेद चन्दन,अगर, मुलहठी, हल्दी, वच, नागकेशर, छोटी इलायची, दालचीनी- ये 14 द्रव्य समान मात्रा में प्रत्येक 16-16 ग्राम लेकर बारीक चूर्ण करें।

उपकरण –

कलई किये हुए बर्तन काम में लें, यदि न हों तो स्टील के बर्तन ले सकते हैं। आवश्यकता के अनुसार भगोना, कढ़ाई, बड़ाथाल, पलटा एवं साफ़ सफ़ेद कपड़े की थैली जिसमें दो किलो आंवले व हरड़ (दोनों 1-1 किलो) आसानी से रखे जा सकें और पिट्ठी निकालने के लिए चलनी आदि उपकरणों की सख्त ज़रूरत होती है।

ब्रह्मा रसायन बनाने की विधि :

सबसे पहले एक स्वच्छ भगोने में, काढ़े के द्रव्यों को, जो कि जौ कुट (मोटे मोटे कुटे हुए) रूप में हैं, ले कर 10 लिटर शुद्ध जल में भिगो कर रात को कपड़े से ढक कर रख दें। प्रातःकाल इस घोल को हाथ से मसल कर उबालने के लिए आग पर रखें। जब पानी उबलने लगे तब साफ़ कपड़े की थैली को पानी से धो कर इसमें हरड़ व आंवले डाल कर, इसका मुंह बांध कर, उबलते पानी में डाल दें और थोड़ी थोड़ी देर में थैली को हिलाते पलटते रहें ताकि थैली तली से चिपक न सके और हरड़ व आंवले अच्छी तरह उबल कर नरम हो जाएं।

जब नरम हो जाएं तब भगौना नीचे उतार लें और थैली को सावधानीपूर्वक खोल कर आंवले और हरड़ को चलनी पर घिस मसल कर गूदा अलग करें व गुठलियां अलग कर फेंक दें। गूदे की पिट्ठी को साफ़ कढ़ाई में देशी घी के साथ, तब तक सेकें जब तक पिट्ठी से घी अलग न हो जाए। ध्यान रहे, पिछी जलने न पाये अतः हिलाते चलाते हुए सेकें। पिछी अच्छी तरह सिक गई है इसकी पहचान यह है कि पिछी से घी अलग हो जाए, पिट्ठी को हाथ में ले कर बत्ती या गोली बन सके और रेखाओं में निशान अंकित होने लगे।

अब भगौने में जो काढ़ा बना रखा है उसे छान कर, छने हुए काढ़े में से लगभग एक लिटर काढ़ा ले कर शक्कर (चीनी) डाल कर 2-3 तार की चाशनी बना लें। इसे ज़रूरत के अनुसार पतली या गाढ़ी रखने के लिए काढ़े के पानी और चाशनी के तार की मात्रा घटाई या बढ़ाई जा सकती है। इस चाशनी में गर्म रहते ही, सिकी हुई पिट्ठी को घी सहित डाल कर अच्छी तरह मिला लें। पांच मिनिट बाद चाशनी को नीचे उतार कर थोड़ा ठण्डा करके, प्रक्षेप द्रव्यों का चूर्ण डाल कर अच्छी तरह से मिला दें और खूब ठण्डा हो जाने पर साफ़ और बिल्कुल सूखे मर्तबान (बी) में भर दें। यह मर्तबान कांच या चीनी मिट्टी की बनी होनी चाहिए। इस विधि से उत्तम क्वालिटी का ‘ब्रह्मा रसायन’ तैयार किया जा सकता है।

उपलब्धता : यह योग इसी नाम से बना बनाया आयुर्वेदिक औषधि विक्रेता के यहां मिलता है।

ब्रह्मा रसायन सेवन विधि और मात्रा : Dosage of Brahma Rasayana

इसका सेवन एक चम्मच (5 ग्राम) मात्रा में, प्रातःकाल दूध या ताज़े पानी के साथ करें। इसका सेवन करने के बाद भोजन में दूध चावल की खीर या दूध चावल अवश्य खाएं। यदि 40 दिन तक, सिर्फ दूध चावल में 1-2 चम्मच घी डाल कर सेवन करें अन्य कुछ पदार्थ न खाएं तो विशेष और शीघ्र लाभ होता है। पाचन शक्ति को देखते हुए धीरे धीरे बढ़ा कर इसे 4 चम्मच तक सेवन किया जा सकता है। इस योग को, प्रातःकाल सिर्फ एक बार उतनी ही मात्रा में सेवन करें जितनी मात्रा पचा सकें।

ब्रह्मा रसायन के फायदे : Brahma Rasayana Benefits in Hindi

शक्ति तथा ओज बढ़ाने में लाभकारी ब्रह्मा रसायन

यह आयुर्वेदिक योग दोहरा लाभ करता है। इसके सेवन से जहां शरीर के विकार और दौर्बल्य के लक्षण दूर होते हैं, शरीर में मौजूद रोग दूर होते हैं और शरीर में नये बल, स्फूर्ति, कान्ति, वीर्यधारण शक्ति तथा ओज की अति वृद्धि होती है ।

( और पढ़े – ताकत बढ़ाने के 25 घरेलू उपाय )

स्मरण शक्ति बढ़ाने में फायदेमंद ब्रह्मा रसायन का प्रयोग

वहां मेधा, स्मरण शक्ति, मनोबल आदि में भी भारी वृद्धि होती है।

दीर्घायु प्रदान करे ब्रह्मा रसायन का सेवन

यदि सेवन करने वाला नियमित दिनचर्या, उचित आहार-विहार और उत्तम आचार-विचार का पालन करते हुए ब्रह्मा रसायन का नियमित सेवन करता रहे तो वह दीर्घायु तक स्वस्थ, सबल और निरोग बना रह सकता है।

उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करने में ब्रह्मा रसायन लाभप्रद

प्राचीन ऋषि गण उत्तम आचरण करते हुए ऐसे ही उत्तम योगों का सेवन कर दीर्घकाल तक स्वस्थ और पराक्रमी जीवन जीते थे।

दिमागी काम करने वालों के लिए उत्तम टॉनिक ब्रह्मा रसायन (benefits of brahma rasayana for brain)

आयुर्वेद ने विविध प्रकार के श्रेष्ठ रसायन गुण वाले उत्तम योग प्रस्तुत किये हैं उनमें ब्रह्मा रसायन एक उत्तम और सौम्य प्रकार का योग है जो छात्र-छात्रा, दिमागी काम करने वाले स्त्री-पुरुष, प्रौढ़ एवं वृद्ध सभी के लिए सेवन योग्य है।

( और पढ़े – दिमाग तेज करने के 15 अनोखे उपाय )

लीवर को मजबूत बनाने में ब्रह्मा रसायन के सेवन से लाभ

यह योग ह्रदय, मस्तिष्क, फुकुस आमाशय, यकृत, प्लीहा, वृक्क आदि सभी अवयवों को सबल व निरोग बना कर शरीर की काया पलट कर देता है।

( और पढ़े – लिवर की कमजोरी दूर करने का उपाय )

वीर्यनाश से आई कमजोरी में ब्रह्मा रसायन से फायदा

अधिक चिन्ता और किसी भी ढंग से वीर्यनाश करने से उत्पन्न हुई शुक्रक्षीणता एवं शारीरिक दुर्बलता दूर करने के लिए यह योग अत्यन्त लाभकारी है।

( और पढ़े – धातु दुर्बलता दूर कर वीर्य बढ़ाने के 32 घरेलू उपाय )

रोगप्रतिरोधक शक्ति बढाने में ब्रह्मा रसायन का उपयोग फायदेमंद

यह योग शरीर की रोगप्रतिरोधक शक्ति बढ़ाता है जिससे एलर्जी की शिकायत खत्म होती है और संक्रमण (Infection) के प्रभाव से शरीर सुरक्षित रहता है।

( और पढ़े – इम्यूनिटी पावर बढ़ाने के 12 उपाय )

यह योग अच्युताय हरिओम फार्मा तथा अन्य निर्माताओं द्वारा बना हुआ बाज़ार में मिलता है। सेवन करें और लाभ उठाएं।

ब्रह्मा रसायन का मूल्य : Brahma Rasayana Price

  • Achyutaya Brahma Rasayan (500 G) – 600 Rs
  • Brahma Rasayana Baidyanath (100 G) – 79 Rs
  • Dabur Brahma Rasayan (250 G) – 145 Rs
  • Avs Kottakkal Brahma Rasayanam (500 G) – 175 Rs
  • Sri Sri Tattva Brahma Rasayana (250 G) – 110 Rs
  • Nagarjun Brahma Rasayan (200 G) – 106 Rs
  • Toptime Brahma Rasayan Antioxidant Memory Booster (500 G) – 810 Rs

ब्रह्मा रसायन के नुकसान : Brahma Rasayana Side Effects in Hindi

  • मधुमेह के रोगियों को इसके सेवन से बचना चाहिए ।
  • गर्भवती महिला इसके सेवन से पहले चिकित्सक से परामर्श करें ।