दांतों को मजबूत व सुरक्षित रखने के 10 उपाय | Danto ki Majbooti ke Upay

हमारे शरीर में जो भी आहार प्रवेश करता है यानी हम जो भी खाते या पीते हैं उसका प्रवेश द्वार है हमारा मुंह और मुंह में होते हैं दांत जो न सिर्फ मुख की सुन्दरता क़ायम रखते हैं बल्कि आहार को चबा कर इतना पतला कर देते हैं कि आहार आसानी से पच जाता है और खाया पिया शरीर के काम आ जाता है। दोनों दृष्टि से यानी स्वास्थ्य और सौन्दर्य की दृष्टि से देखें तो दांत शरीर के बहुत महत्त्वपूर्ण अंग दिखाई देते हैं और इसलिए यह बेहद ज़रूरी हो जाता है कि दांतों की रक्षा की जाए, इन्हें नष्ट न होने दिया जाए। इस सम्बन्ध में “दांतों की रक्षा के सरल उपाय” यहां प्रस्तुत किये जा रहे हैं।

आयुर्वेदिक उपायों से रखे दांतों को स्वस्थ व निरोगी : Natural Ways to Keep Teeth Strong

८० से ९० प्रतिशत बालक विशेष कर दाँत के रोगों से, उसमें भी दंतकृमि से पिडित होते हैं । बालकों के अलावा और लोगों में भी दाँत के रोग वर्तमान में विशेष रूप से देखने को मिलते हैं ।

1).  खूब ठंडा पानी अथवा ठंडा पदार्थ खाकर गरम पानी अथवा गरम पदार्थ खाया जाय तो दाँत जल्दी गिरते हैं ।

2). अकेला ठंडा पानी और ठंडे पदार्थ तथा अकेले गरम पदार्थ तथा गरम पानी के सेवन से भी दाँत के रोग होते हैं । इससे ऐसे सेवन से बचना चाहिए ।

3). भोजन करने के बाद दाँत साफ करके कुल्ले करना चाहिए । अन्न के कण दाँत में फँस तो नहीं गये इसका ध्यान रखना चाहिए ।

4).  kamjor dant ka ilaj : महीने में एकाध बार रात्रि को सोने से पूर्व नमक एवं सरसों का तेल मिलाकर, उससे दाँत घिसकर, कुल्ले करके सो जाना चाहिए । ऐसा करने से वृद्धावस्था में भी दाँत मजबूत रहेंगे ।

5). सप्ताह में एक बार तिल का तेल दाँतों में घिसकर तिल के तेल के कुल्ले करने से भी दाँत वृद्धावस्था तक मजबूत रहेंगे ।

6). आईसक्रीम, बिस्कीट,फ्रीज के ठंडे और बासी पदार्थ, चाय, कॉफी आदि के सेवन से बचने से भी दाँतों की सुरक्षा होती है । सुपारी जैसे अत्यंत कठोर पदार्थों से खास बचना चाहिए ।

7). सेज की पत्तियों को दांतों पर रगड़ने से या चूसने से दांतों पर लगी गन्दगी साफ हो जाती है, मसूढ़े मजबूत हो जाते हैं और दांत मोती के जैसे चमकने लगते हैं।

8). नीम की डण्डी को दांतों से चबाकर ब्रश का रूप देने के बाद जितनी देर हो सके इस डण्डी को चबाया जाए उतना ही लाभ मसूढ़ों और दांतों को मिलता है और दांत साफ होकर चमकने लगते हैं।

9). तंबाकू,पान, चॉकलेट या चिगम आदि ज्यादा खाने से मसूढ़ों के रोग हो जाते हैं इसलिये इनके इस्तेमाल से बचना चाहिए।

10). dato ke hilne ka ilaj : जामुन की छाल को जलाकर अथवा पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में सेंधा नमक व काली मिर्च मिलाकर मंजन करें, दांत मजबूत हो जाएंगे।

दांतों की रक्षा के कुछ अन्य सरल उपाय :

  • दांतों की रक्षा के लिए सुबह शाम दोनों वक्त पेस्ट या मंजन से दन्त मंजन करने से दांतों में कीड़ा नहीं लगता।
  •  काला, लाल या सफ़ेद टूथ पाउडर लगा कर अंगुली से दांत व मसूढ़ों को खूब रगड़ना चाहिए। इससे दांत व मसूढ़े मज़बूत बने रहते हैं और मैले भी नहीं रहते।
  • दन्त मंजन करने से मसूढ़ों में रक्त संचार भली भांति होता है जिससे दांत व मसूढ़े मज़बूत व स्वस्थ रहते हैं।
  • अंगुली से मसूढों को रगड़ने के बाद टूथ ब्रश से हलके हलके दांतों को साफ़ करना चाहिए।
  •  कठोर टूथब्रश का प्रयोग न करें, मुलायम ब्रश का प्रयोग करना चाहिए।
  •  कुछ खाने के बाद कुल्ले करके मुंह साफ़ अवश्य करें। चाहें तो ब्रश कर सकते हैं।
  • किसी भी प्रकार का कोल्ड ड्रिक, फ्रिज में रखा पानी और बहुत तेज़ गर्म चाय नहीं पीना चाहिए।
  •  गाजर, मूली, सेवफल आदि खूब चबा चबा कर खाना और गन्ना चूसना दातों के लिए बहुत लाभकारी होता है।
  •  दिन में एक बार सरसों के तेल में थोड़ा सा नमक मिला कर इसे अंगुली से मसूढ़ों पर लगा कर थोड़ी देर रगड़ें फिर 10-15 मिनिट तक तेल लगा रहने दें, उसके बाद थूक-थूक कर मुंह साफ़ कर लें।
  • बच्चों को चाकलेट, कोल्ड ड्रिंक और फ्रिज का पानी पीने की आदत न डालें। इन आदतों से दांत खराब होते हैं।
  • भोजन करते समय प्रत्येक कौर को 32 बार चबाने की आदत रखें। इससे आहार बहुत अच्छी तरह और जल्दी हजम होता है तथा दांत व मसूढ़े मज़बूत बने रहते हैं।

(उपाय व नुस्खों को वैद्यकीय सलाहनुसार उपयोग करें)

Leave a Comment