हृदय को मजबूत कैसे करें, घरेलू उपाय, योग और नुस्खें – Hriday ko Majboot Karne ke Upay, Tarike aur Nuskhe

हृदय एक चमत्कारिक पंप है। यदि कोई पंप विक्रेता ऐसे चमत्कारिक पंप की बात करे, जो 75 वर्षों तक लगातार चले व एक अरब बार पंप करने की क्षमता रखे। साथ ही चालीस करोड़ लीटर आवश्यक तरल पदार्थ को प्रवाहित कर आपके कारखाने को चलाने की क्षमता रखता हो तो आप उसकी बात को नहीं मानेंगे। आप माने या न मानें परंतु ईश्वर द्वारा बनाया मनुष्य का हृदय एक ऐसा ही चमत्कारिक पंप है, जो प्रतिदिन शरीर की रक्तनलिकाओं के माध्यम से लगभग एक लाख किलोमीटर की लंबाई में रक्त को प्रवाहित करता है।

मनुष्य के हृदय की संरचना और कार्यविधि (Structure and Function of the Heart in Hindi)

hamara hriday kaise kaam karta hai –

मानव हृदय एक मुट्ठी के आकार का है। वज़न 300 से 350 ग्राम, 15 से.मी. लंबा, 10 से.मी. चौड़ा तथा 2.5 से.मी. मोटा होता है। हृदय के दो भाग होते हैं। बायाँ हृदय एवं दायाँ हृदय।
दायाँ हृदय फेफड़ों को रक्त वितरण के लिए ज़िम्मेदार होता है, जबकि बायाँ हृदय संपूर्ण शरीर को शुद्ध रक्त पहुँचाता है। साथ ही धमनियों द्वारा प्रत्येक कोशिकाओं को शुद्ध रक्त, ऑक्सीजन देता है व अन्य पोषक तत्त्वों को पूर्ण करता है।

हृदयाघात क्या होता है ? (What is a Heart Attack in Hindi)

hriday ghat kya hai –

रक्तवाहिनी (कोरोनरी आर्टरी) में चरबी जैसे पदार्थ जम जाते हैं व इससे रक्तवाहिनी संकरी हो जाती है। कभी-कभी खून का थक्का जम जाता है, इससे हृदय के कुछ भाग को खून नहीं मिलता है। साथ ही ऑक्सीजन व अन्य पोषक तत्त्व न मिलने से वह भाग काम करना बंद कर देता है। इसे ही हार्ट अटैक कहते हैं।
हृदय के अन्य रोग जैसे कि – एनजाइना, उच्च रक्तचाप, निम्न रक्तचाप, हृदय का छोटा होना, हार्ट अटैक आदि।

हृदय को मजबूत कैसे करे (How to Make Heart Strong and Healthy in Hindi)

hraday ko majbut kaise banaye –

हृदय को स्वस्थ और मजबूत करने के आसान घरेलू उपाय

1) आँवले का सेवन – विटामिन सी व ई से भरपूर अनाज़ व फलों का सेवन करें, जैसे- आँवला, व अंकुरित अनाज़।

( और पढ़े – आँवला रस के 16 अनूठे फायदे )

2) तेल का प्रयोग कम करें – सभी सब्ज़ियों का प्रयोग करें। तेल का प्रयोग नहीं के बराबर करें। यदि करना है तो राइस ब्रान, तिल का तेल या सोया तेल का प्रयोग करें।

3) खट्टे फल लें – सप्ताह में 3 से 4 बार रसदार खट्टे फल ज़रूर खाएँ।

4) हल्दी का उपयोग लाभप्रद – हृदय रोगी को हल्दीवाला पानी पीना चाहिए। हल्दी हमारे रक्त को गाढ़ा होने से बचाती है, जिससे हार्ट अटैक व हृदय संबंधी अन्य रोगों की संभावना कम हो जाती है।

( और पढ़े – हल्दी के 110 सेहतमंद लाभ )

5) हींग का उपयोग करें – हींग का प्रयोग ज़रूर करें। यह गैस को मिटाता है। साथ ही छाती की धड़कन व दर्द को मिटाता है। इसे पानी में थोड़ा सा मिलाकर ले सकते हैं। उच्च रक्तचाप को नियंत्रण में करता है।

6) सोया मिल्क का उपयोग – सोया मिल्क का प्रयोग भी हृदय के लिए लाभदायक है।

7) नमक का इस्तेमाल करें कम – हृदय रोगी या उच्च रक्तचापवालों को नमक का इस्तेमाल कम करना चाहिए। उसकी जगह पर सेंधा नमक का इस्तेमाल करें। सामान्य व्यक्ति भी पहले से ही इस नमक का प्रयोग करे तो हृदय रोग से बच सकता है।

( और पढ़े – सेंधा नमक के 12 अनोखे फायदे )

8) सफेद प्याज़ है हृदय के लिए लाभकारी – प्याज़ के सेवन से वात, पित्त, क्षयरोग व हृदय की बीमारियों में फायदा होता है। हो सके तो सफेद प्याज़ का सेवन करें।

9) अदरक है फायदेमेंद – अदरक का प्रयोग चटनी, सब्ज़ी में डालकर कर सकते हैं। खाने से पहले अदरक के दो-तीन टुकड़े खाने से लाभ होगा। स्वस्थ हृदयवाले भी इसका प्रयोग करें।

10) अर्जुन का उपाय हृदय रोग से बचाय – अर्जुन की छाल का पाउडर या उससे बनी 2 गोलियाँ सुबह-शाम लेने से हृदय रोग में आराम मिलता है।

( और पढ़े – अर्जुन छाल के 40 चमत्कारिक औषधिय प्रयोग )

11) सूखे मेवे बचाय ह्रदय रोग से  – रोज़ बादाम, अखरोट, अंजीर, तरबूज़, पीच, काले अंगूर, शकरकंद आदि लेने से कॉपर की मात्रा बढ़ती है, जो इस बीमारी को दूर करने में सहायता करती है।

12) हृदय ब्लॉकेज के लिए घरेलू नुस्खा – जिनके हृदय की नली में ब्लॉकेज है उन रोगियों को यह नुस्खा ज़रूर अजमाना चाहिए। –
दालचीनी, काली मिर्च, तेजपत्ता, तरबूजे का बीज, मिश्री, अखरोट और अलसी इन सभी को 10-10 ग्राम लेकर उसका पाउडर बनाएँ। फिर इसकी 10 पुड़िया बना लें। रोज सुबह-शाम दो कप पानी में डालकर उबालें। पानी आधा रह जाए तब छानकर पी लें। इसे लेने के बाद 1 घंटे तक कुछ न लें।

( और पढ़े – हार्ट ब्लॉकेज खोलने के उपाय )

13) तुलसी का सेवन हृदय रोग से बचाय – तुलसी के 4 से 5 पत्ते रोज सुबह खाएँ। यह दिल की बीमारी में फायदेमंद है।

14) छिलकेवाली दाल है उपयोगी – छिलकेवाली दालों का प्रयोग करें, फायदा होगा।

15) एलोवेरा का उपयोग – एलोवेरा के गुदे में हृदय रोगों को दूर करने की क्षमता है। उच्च रक्तचाप को नियंत्रण में रखता है। सुबह-शाम 100-100 ग्राम गुदा खाने से कोलेस्ट्रोल की मात्रा कम होती है।

16) पुदीना भी है फायदेमंद – पुदीने को किसी भी रूप में सेवन कर सकते हैं। इसके सेवन से हृदय की कमज़ोरी दूर होती है।

17) सोंठ पाउडर का उपाय – हृदय कमज़ोर हो गया है या धड़कन धीमी हो रही है तो सोंठ पाउडर गर्म पानी में डालकर उबालें। उसमें थोड़ा सा सेंधा नमक डालकर सेवन करें।

18) हल्दीवाले चने भी है लाभदायक – हृदय रोग में खून में चरबी बढ़ती है तो भूने हुए हल्दीवाले चने खाएँ।

19) हृदय रोगों से रक्षा करे गिलोय – हृदय संबंधी रोग में गिलोय का प्रयोग ज़रूर करें। इससे उच्च रक्तचाप नियंत्रण में रहता है। कोलेस्ट्रोल बराबर रहता है। खून की कमी दूर होती है व शुद्ध खून का निर्माण होता है।

20) उत्तम है छाछ का सेवन – भोजन के बाद छाछ व दही का प्रयोग करें।

21) अदरक का रस भी है गुणकारी – अदरक का रस निकालकर थोड़ा-थोड़ा पिएँ।

हृदय को मजबूत करने के लिए जूस का प्रयोग (Keep Your Heart Healthy with this Juice in Hindi)

hriday ko majboot karne ke liye juice in hindi –

  1. सप्ताह में 4-5 बार खट्टे फल जैसे – नारंगी, संतरा, किन्नू आदि का जूस लें। खट्टे जूस में विटामिन सी होता है, साथ ही बीटा कैरोटीन प्राप्त होता है।
  2. नींबू का शरबत दिन में 2 बार लें।
  3. गाजर का जूस भी ले सकते हैं।
  4. 600 ग्राम अदरक + 600 ग्राम नींबू + 600 ग्राम पके सेब + 600 ग्राम लहसुन लें। इन सबको पीस लें। धीमी आँच पर इन्हें उबालें। जब १ कप जूस कम हो और 3 कप रह जाए तब ठंडा होने पर 3 कप शहद मिलाकर काँच की बोतल में भरकर रखें। रोज़ सुबह-शाम 2चम्मच लें। इसे लेने के बाद 1 घंटे तक पानी न पिएँ।

कोलेस्ट्रोल कैसे कम करें ? (How to Reduce Cholesterol in Hindi)

cholesterol kam karne ke upay in hindi –

  1. कोलेस्ट्रोल को कम करने के लिए लहसुन का प्रयोग करें।
  2. अलसी या इसका तेल प्रयोग में लाएँ। इसमें ओमेगा 3 व ओमेगा 6 पूर्ण मात्र में होता है। इससे खराब कोलेस्ट्रोल कम होता है व अच्छा कोलेस्ट्रोल बनता है।
  3. ओट्स का प्रयोग करें।
  4. कढ़ीपत्ते का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल कम होता है।
  5. हरे धनिए का या बीजों का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल नियंत्रण में रहता है।
  6. मेथी दाने भी कोलेस्ट्रोल को नियंत्रण में रखते हैं।
  7. दालचीनी व लेंडी पिपली का पाउडर, लहसुन 2 से 3 कली, 1 कप पानी, 1 कप दूध लेकर आधा रहने तक उबालें। फिर इसे छानकर सुबह लें।
  8. लहसुन चबा-चबाकर खाने से कोलेस्ट्रोल की मात्रा कम होती है।
  9. बीजवाले अंगूर का सेवन करें। अच्छे कोलेस्ट्रोल का निर्माण होता है।
  10. पपीते का सेवन करने से कोलेस्ट्रोल जमा नहीं होता है।
  11. ताजे दही का प्रयोग रोज़ करें, फायदा होगा।

उच्च रक्तचाप कैसे कम करें ? (How to Reduce High Blood Pressure in Hindi)

ucch raktchap kam karne ke upay –

  1. मेथीदाना, बीजवाले अंगूर, लहसुन, नींबू का रस इसमें उतना ही पानी मिलाकर पीने से उच्च रक्तचाप नियंत्रण में रहता है।
  2. अदरक के रस में उतना ही पानी मिलाकर पीने से उच्च रक्तचाप ठीक होता है।
  3. तुलसी व काली मिर्च खाएँ।
  4. लहसुन को पीसकर दूध के साथ पीने से फायदा होता है।
  5. 2 चम्मच शहद + 1 चम्मच नींबू रस सुबह-शाम लेने से रक्तचाप में फायदा होता है।
  6. 1 कटोरी पुदीना + थोड़ी सी काली मिर्च का पाउडर, थोड़ा सा पानी डालकर पीस लें। सुबह-शाम इसे खाना खाने के साथ लेने से उच्च रक्तचाप नियंत्रण में होता है।
  7. अनारदाना के रस में थोड़ी सी काली मिर्च पाउडर + शहद मिलाकर लें।
  8. पारिजात के फूलों को पानी आधा रह जाने तक उबालें। इसे सुबह पिएँ।

हृदय रोग में योग व प्राणायाम (Yoga and Pranayama in Heart Disease in Hindi)

hriday ko majboot karne ke liye yoga –

कुदरत ने जो शरीर हमें दिया है, उसमें सभी अंग महत्वपूर्ण हैं। लेकिन उसमें सबसे महत्वपूर्ण है हृदय, जिसे सँभालना हमारा काम है। कई बार हमारी वजह से भी हृदय की बीमारियाँ होती हैं। उसके लिए हम पहले से ही योग व प्राणायाम का अभ्यास करें। लेकिन यदि हमें हृदय की कोई बीमारी हो गई है तो भी हम डॉक्टर की सलाह से निम्न आसन और प्राणायाम कर सकते हैं। इन आसनों को आराम से व शांति से करें। आइए, जानते हैं हृदय रोग में कौन-कौन से आसन फायदेमंद साबित होते हैं।

  • सूक्ष्म व्यायाम में गरदन की व अन्य यौगिक क्रियाएँ करें।
  • नौकासन, शशांकासन, वज्रासन, उत्तानपादासन, हलासन, पवनमुक्तासन, सूर्य नमस्कार, पद्मासन, ताड़ासन, मकरासन करें।
  • प्राणायाम, अनुलोम विलोम, कपालभाति, भ्रामरी, शीतली प्राणायाम, चंद्रभेदी, शीतकारी प्राणायाम करें। ४) ॐ का उच्चारण करें।
  • आकाश मुद्रा, अपान मुद्रा, अपान वायु मुद्रा करें।

हृदय रोगी ऊपर दिए गए घरेलू उपचार व आसन डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करें।

(अस्वीकरण : दवा,उपाय व नुस्खों को वैद्यकीय सलाहनुसार उपयोग करें)

Leave a Comment