स्वस्थ सुंदर दांतों के लिए आसान घरेलू नुस्खे

दातों का सौंदर्य :

दांतो का संबंध केवल स्वास्थ्य से ही नहीं, सौंदर्य व व्यक्तित्व से भी जुड़ा हुआ है। चेहरे की सुंदरता को बढ़ाने में जितना योगदान होंठों का होता है, उससे कहीं अधिक योगदान दांतों का होता है। अपनी मुस्कराहट की छाप छोड़ने के लिए साफ, चमकदार मोती जैसे दांतों का होना ज़रूरी है। पीले, बदरंग, काले, कीड़े लगे दांत, आपके खूबसूरत व्यक्तित्व पर धब्बे के समान होते हैं।

दर्दयुक्त, अस्वस्थ दांतों से आहार ठीक से चबाया नहीं जा सकता है, जिसकी वजह से दांतों का काम आंतों को करना पड़ता है। इससे पाचन शक्ति नष्ट होने लगती है। अस्वस्थ दांत मुंह में दुर्गंध भी पैदा करते है। वैज्ञानिक अनुसंधानों से यह तथ्य सामने आया है कि मनुष्य के दांतों की मजबूती का सीधा सम्बन्ध उसके भोजन से होता है। आदि मानव के दांत काफी मज़बूत होते थे, क्योंकि वह खाध पदार्थ के रूप में कठोर व कहीं वस्तुओं का उपयोग करता था। आधुनिक आदमी के भोजन का स्वरूप मुलायम होने के साथ ही “स्टार्च” से परिपूर्ण हो गया है। जो दांतों में कैविटी’ उत्पन्न होने का मुख्य कारण है।

इन बातों का ध्यान रखें :

  • दांतों की सफाई पर समुचित ध्यान दें। इससे दांत जीवन पर्यन्त साथ देंगे, साथ ही आपके सौदर्य को बढ़ाने में भी सहयोग देंगे।
  • दांतों की सफाई के लिए नियमित रूप से दो वक्त भली भांति ब्रस करें। दांतों को इस तरह से साफ करें कि दांतों में फंसे हुए अन्न-कण निकल जाएं।
  • ब्रुश करने के बाद साफ पानी से अच्छी तरह कुल्ला करें। कुल्ला करते समय अपनी उंगली से मसूढ़ों की मालिश करें इससे रक्त संचार तेज होगा और मसूढ़े सुंदर व दांत मज़बूत होंगे।
  • अधिक गरम व अधिक ठंडे पदार्थ दांतों को नुकसान पहुंचाते हैं अत: अधिक गरम व अधिक ठंडे पदार्थों का प्रयोग न करें।
  • गरम पेय पदार्थ के तुरंत पश्चात् ठंडा पानी पीने से दांत हिलने लगते हैं। इसलिए गरम पेय पदार्थ पीने के तुरंत बाद ठंडा न पिएं।
  • मीठी वस्तुएं, चॉकलेट, टॉफी, कोल्ड ड्रिंक, आइस्क्रीम, बिस्कुट, जैम, केक, जिस आदि को अधिक इस्तेमाल न करें। यह सब चीजें दांतों को हानि पहंचाती हैं। ऐसे पदार्थों का इस्तेमाल करने के बाद पानी से कुल्ला अवश्य कर लें।
  • दांतों को औजार के रूप में इस्तेमाल न करें। जैसे दांत से खींचकर कोई चीज निकालना, धागा तोड़ना, वायर छीलना आदि।
  • दांतों को पिन, सुई, तीली आदि से न कुरेदें। इससे मसूढ़ों में घाव हो जाता है, साथ ही सेप्टिक होने का भय रहता है।
  • धूम्रपान, मधपान, पान, तंबाकू, गुटखा आदि के इस्तेमाल से भी दांतों का सौंदर्य नष्ट हो जाता है। ऐसी चीजों के इस्तेमाल से बचें।
  • दूसरों के इस्तेमाल किए जाने वाले टूथब्रश का इस्तेमाल न करें। इससे दांतों में किसी प्रकार का संक्रमण हो सकता है।
  • भोजन करने के बाद गाजर, मूली, ककडी, खीरा, अमरूद, सेब आदि खाने से दांत साफ होते हैं तथा दांत सुंदर व मज़बूत भी होते हैं।
  • एक बर्ष में दो बार दांतों का चिकित्सकीय परीक्षण अवश्य करवाना चाहिए, ताकि किसी भी प्रकार के रोग संक्रमण का समय पर पता लग सके।
  • दंत-मंजन अच्छा, नर्म तथा उच्च गुणवत्ता का हो, घटिया व खुरदरे दंत-मंजन आपके दांतों को घातक नुकसान पहुंचा सकते हैं।
  • पेयजल के रूप में फ्लोराइडयुक्त पानी का उपयोग करें। इसमें एनेमल तत्व होते हैं, जो दांतो पर अम्ल के प्रभाव को कम करते हैं तथा दांतो को मजबूती प्रदान करते हैं।
  • गर्भवस्था के दौरान पूर्ण तथा संतुलित आहार नहीं लेने का सीधा असर गर्भस्थ शिशु के दांतो पर पड़ता है।

दांतों के सौंदर्य के लिए उपाय :

  1. आधा नीबू लेकर दांतों और मसूढ़ों पर रगड़ें। इससे दांत साफ होंगे मसूढ़े भी सुंदर बनेंगे। नीबू में पाए जाने वाले तत्व दांतों व मसूढ़ों के लिए काफी लाभदायक होते हैं।
  2. आधा चम्मच नमक में तीन-चार बूंद सरसों का तेल मिलाकर दांतों पर हलके हाथों से रगड़ें। इससे दांतों का पीलापन दूर हो जाता है। नमक में पाए जाने वाले तत्व ब्लीच करके, दांतों पर जाने वाले टार्टर को साफ कर देते हैं, जिससे दांत साफ होकर चमचमा उठते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि इसे दांतों पर तेजी से न रगड़ें।
  3. दांतों पर हलके धब्बे दिखाई पड़ने पर स्ट्राबेरी के टुकड़े दांतों पर मलें। स्ट्राबेरी में पाए जाने वाले तत्व दानों को ब्लीच कर धब्बों को दूर कर देते हैं।
  4. जामुन की पत्तियों के एक चम्मच पेस्ट में चुटकी भर सेंधानमक मिलाकर दांतों पर रगड़ने से दांत मोती जैसे चमकने लगते हैं। जामुनके पत्तों में अनेक प्रकार के तत्व पाए जाते हैं, जिससे दांत मोती जैसे चमकने लगते हैं।
  5. नीम की दातुन से दांतों को साफ करने से दांत सुंदर, मजबूत व स्वस्थ रहते हैं। नीम दांतों और मसूढ़ों को सुंदर व मज़बूत बनाता है। इसमें पाए जाने वाले तत्व दांतों को स्वस्थ रखते हैं।
  6. गुलाब की दातुन से दांत साफ करने से दांत सुंदर, मज़बूत व चमकीले बनते हैं।
  7. दांत हिलने पर तथा दांतों से खून आने पर बबूल की दातुन से दांतों को साफ करें। बबूल में पाए जाने वाले तत्व दातों के प्लॅग को कस देते हैं तथा मसूढ़ों से खून आने की समस्या को भी दूर करते हैं।
  8. मसूड़ो से खून गिरने पर आम के ताजा पत्तों को खब चबाएं तथा थूकते जाएं, इससे मसूड़ो का रक्तस्त्राव तो बंद होगा ही साथ ही, दांत भी मजबूत होंगे।
  9. यदि पानी पीने पर दांतों में टीस लगती हो तो मांजूफल के मंजन से दांतों पर मालिश करें।
  10. कपूर, सत अजवाईन तथा सत पुदिना तीनों को बराबर मात्र में एक शीशी में भर लें। कुछ देर में यह द्रव रूप में आ जाएगा। इसकी एक दो बूद लगाने से दाँत दर्द दूर हो जाता है।
  11. पायरिया के उपचार हेतु नियमित रूप से फलाहार पर रहना भी एक सार्थक उपाय हैं, फलाहार के रूप में संतरा, नींबू , मौसमी फल, गाजर आदि के जूस का सेवन करें। नीम की हरी पत्तियों को पानी में पीसकर दिन में कई बार उससे गरारे करें।

Leave a Comment