पूज्य बापू जी का संदेश

ऋषि प्रसाद सेवा करने वाले कर्मयोगियों के नाम पूज्य बापू जी का संदेश धन्या माता पिता धन्यो गोत्रं धन्यं कुलोद्भवः। धन्या च वसुधा देवि यत्र स्याद् गुरुभक्तता।। हे पार्वती ! जिसके अंदर गुरुभक्ति हो उसकी माता धन्य है, उसका पिता धन्य है, उसका वंश धन्य है, उसके वंश में जन्म लेने वाले धन्य हैं, समग्र धरती माता धन्य है।" "ऋषि प्रसाद एवं ऋषि दर्शन की सेवा गुरुसेवा, समाजसेवा, राष्ट्रसेवा, संस्कृति सेवा, विश्वसेवा, अपनी और अपने कुल की भी सेवा है।" पूज्य बापू जी

यह अपने-आपमें बड़ी भारी सेवा है

जो गुरु की सेवा करता है वह वास्तव में अपनी ही सेवा करता है। ऋषि प्रसाद की सेवा ने भाग्य बदल दिया

Successful LifeTips

Home » Blog » Successful LifeTips

सफलता प्राप्ति के लिए स्वस्तिक के अचूक शास्त्रीय प्रयोग | Swastik for success

2017-03-15T12:18:02+00:00 By |Successful LifeTips, Vastu|

1. पञ्च धातु का स्वस्तिक(Swastik) बनवा के प्राण प्रतिष्ठा करके चौखट पर लगवाने से अच्छे परिणाम मिलते हैं. 2. [...]

अगर जीवन मे सुख समृद्धि की चाह है तो इसे आपको पढ़ना चाहिये (बडे काम की जानकारी ..पूरा पढ़े )

2017-03-14T10:08:59+00:00 By |kya kare kya na kare, Successful LifeTips|

-आरती के समय कपूर जलाने का विधान है। घर में नित्य कपूर जलाने से घर का वातावरण शुद्ध रहता है, [...]