सिगरेट (धूम्रपान) की लत छोड़ने के उपाय | Cigarette Chodne ke Upay in Hindi

धूम्रपान तंबाकू के ज़हर से ऐसे छुटकारा पाएं :

सिगरेट स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। सिगरेट या बीड़ी की लत से छुटकारा मिल सकता है यदि इसके लिए एक निश्चित प्रक्रिया का क्रमबद्ध ढंग से पालन किया जाए। इस प्रक्रिया का पहला और महत्वपूर्ण कदम है अपने अन्दर सिगरेट से पीछा छुड़ाने की दृढ़ इच्छाशक्ति जागृत करना। सिगरेट छोड़ने का प्रयास करने वाले बहुत से लोग दृढ़ इच्छा शक्ति के सहारे आगे बढ़ने के बावजूद जल्दी ही धुएं के छल्ले बनाने लगते हैं। इसका कारण यह है कि वे सिगरेट से पीछा छुड़ाने की सम्पूर्ण प्रक्रिया पर शब्दशः अमल करने में फेल हो जाते हैं। सिगरेट के मोह से बचने या बचाने के लिए प्रस्तुत है एक क्रमबद्ध सिलसिला। इसके सहारे आप निश्चय ही एक जानलेवा और गन्दी आदत से मुक्ति पा सकते हैं।

सिगरेट छोड़ने के उपाय : Bidi Cigarette Chodne ke Gharelu Upay

1) सिगरेट छोड़ने का इरादा करने के बाद आपका, सिगरेट के लती दोस्तों के बीच बैठना, पार्टियों और दावतों में जाना, बेहद खतरनाक है। इसी तरह सिगरेट की तलब लगने वाले समय में सिगरेट का आपके आस-पास मौजूद रहना आपकी भीष्म-प्रतिज्ञा को खण्ड-खण्ड करने के लिए काफ़ी है।

2) अच्छा हो कि आप इससे छुटकारा पाने की प्रतिज्ञा के बाद अपनी दिनचर्या में आमूल परिवर्तन ले आएं। इस परिवर्तन पर तब तक अमल करें.जब तक आप इसके अभ्यस्त न हो जाएं ।

3) सिगरेट छोड़ने का इरादा जिस दिन से करें उससे आगे पीछे न हों और पूरी तरह दृढ़ रहें तथा – अपने पास रखी हुई सिगरेटें छिपाएं नहीं बल्कि नष्ट कर दें। इसके बाद कितनी भी तलब की स्थिति में आ जाएं, सिगरेट न पिएं। ध्यान रहे इस मामले में अपवाद शब्द का शामिल होना सब गुड़गोबर कर सकता है।

4) सिगरेट छोड़ने के बाद उससे होने वाले लाभ के प्रति आशान्वित रहें और अपना उत्साह बनाए रखें। अपने आपको स्वस्थ महसूस करें और सिगरेट त्याग करने से बचने वाले पैसे का ध्यान रखें।

5) यदि आप एक बार बीड़ी, तम्बाकू ,सिगरेट छोड़ने के अपने प्रयास में पराजित हो चुके हैं तो निराश न हों, बल्कि उन कारणों को याद करें और इस बार उनसे बचने का उपाय पहले से सोच रखें जिनके कारण आपको पुनः सिगरेट की शरण में जाना पड़ा था।

6) मित्रों और सहयोगियों के सिगरेट के प्रस्ताव को दृढ़ता से नकार दें और इसके प्रति अरुचि ज़ाहिर करें। याद रखें आपका एक-एक दिन बगैर सिगरेट के गुज़ारना वैसा ही है जैसे आप रोज़ एक दुश्मन की चौकी पर फ़तह हासिल कर रहे हों। सिगरेट छोड़ने के बाद आप निश्चित रूप से कार्बन मोनो आक्साइड तथा अन्य प्रदूषणों से मुक्त होकर अपने आपको तरोताज़ा महसूस करेंगे। आप अपनी सांस ज्यादा स्वच्छ व ताज़ी महसूस करेंगे। इसके अलावा आप इस चिन्ता से मुक्त हो जाएंगे कि आपके स्वास्थ्य को खतरा पहुंचाने वाली चीज़ आपसे जुड़ी हुई है।

7) आमतौर पर अधिकांश लोगों को सिगरेट छोड़ने के बाद कुछ कुप्रभाव जैसा महसूस नहीं होता लेकिन एक दिन में दर्जनों सिगरेट फूंक देने वालों को ज़रूर कुछ दिन तक असामान्य सा महसूस होता है। जैसे सिर घूमना या पल-पल में उद्विग्नता या असन्तोष का अहसास होना।

8) कुछ लोग पेट की गड़बड़ी से परेशान हो जाते हैं। किसी-किसी को दस्त और डायरिया भी जकड़ लेता है लेकिन यह स्थिति बहुत कम हो पाती है। कुछ लोगों को महीनों तक सिगरेट की तलब बेचैन करती रहती है। यदि आप अपने वज़न में ज्यादा कमी पाएं तो इसके लिए परेशान न हों क्योंकि यह स्थिति मात्र एक माह तक रहती है। इसके बाद आपका वज़न आपके स्वास्थ्य के अनुरूप हो जाता है। ऐसे समय याद रखें कि वजन का कम होना या बढ़ना सिगरेट पीने से होने वाले नुकसान से कई गुना अच्छा है। यह परेशानियां भी एक या दो सप्ताह तक ही सीमित रहती हैं अतः इनके प्रति चिन्तित न हों।

9) सिगरेट छोड़ने के बाद भी यदि आपका मन इसके लिए ललचाए तो बिस्कट, चाकलेट के बजाय कच्ची सब्ज़ियां या फल खाएं। चाय और काफी के बजाय फलों का रस पिएं। ध्यान रखें कि सिगरेट की तलब पूरी करने के लिए खेनी, पान मसाला, चाय या काफी को विकल्प बनाने के लालच से बचें।

10) अपने परिवार वालों और सहयोगियों से कहें कि आप के सिगरेट त्यागने के इरादे को प्रोत्साहित करें और अपना योगदान दें। सिगरेट के आकर्षण से बचने की अपनी इच्छा-शक्ति को कभी डगमगाने न दें।

11) जहां तक हो सके अपनी सिगरेट-प्रेमी मित्र-मण्डली से बचें, खासकर तब जब उनके सिगरेट फूंकने का समय हो ।