पैरों की ऐसे करें देखभाल – Foot Care Tips in Hindi

उजले, मखमल से नर्म, गुलाब से नाजुक पैर किसे अच्छे नहीं लगते। प्रायः स्त्रियां अपने चेहरे को मेकअप की परतों में छुपा उसे सुन्दर व आकर्षक दिखाने की चेष्टा करती हैं, परन्तु पैरों की सुन्दरता की ओर उनका ध्यान नहीं जाता या फिर वे इसे जरूरी नहीं समझतीं।

पैरों की सही देखभाल न करने का नतीजा होता है – रूखे, झुर्रियोंदार पैर, गंदे व बेडौल नाखून, सैंडल की रगड़ से काले हुए पैर तथा सबसे अधिक दुखदायी खुरदरी व फटी एड़ियां। बहुत अधिक लापरवाही के कारण जिनमें से कभी-कभी खून तक निकलने लगता है और जब तक आपका ध्यान उनकी तरफ जाता है तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

यदि आप चाहें कि आपके पैर न फटें तो शुरू से देखभाल कीजिए। कुछ महत्वपूर्ण टिप्स ध्यान में रखिए, फिर देखिए आपके पैर भी कमल के समान खिल उठेंगे।

पैरों का ख्याल रखने के तरीके (Pairon ki Dekhbhal ke Upay)

pairon ki dekhbhal kaise karen

  • नहाने के समय पैरों की एड़ियों को ‘फुट स्क्रबर’ से, पैरों के ऊपरी हिस्से को ‘प्यूमिक स्टोन’ से तथा नाखूनों को नेलब्रश या पुराने टूथब्रश से साफ करें। इससे मृत त्वचा निकल जायेगी तथा नये कोश उत्पन्न होंगे।
  • नहाते समय बेसन, मुलतानी मिट्टी, मलाई, शहद व नींबू मिलाकर पूरे शरीर के साथ-साथ पैरों पर भी लगायें। धीरे-धीरे रगड़ें तथा धो डालें।
  • नहाने के बाद पैरों पर हल्का-सा सरसों का तेल लगायें तथा पैर धो दें।
  • नहाकर पूरे बदन को पोंछने के साथ-साथ पैरों को भी अच्छी तरह पोंछे।
  • बॉडी लोशन बदन के साथ-साथ पैरों पर भी अच्छी तरह लगायें या कोई भी कोल्ड क्रीम लेकर उससे मालिश करें। इससे रक्त संचालन सही होगा।
  • पूरी सर्दियों में नहाने से पहले पैरों में सरसों के तेल की मालिश करें।
  • अधिक ठंड के दिनों में मोजे पहनें।
  • भूल कर भी पैरों को अंगीठी या हीटर से न सकें। इससे त्वचा का प्राकृतिक तेल सूख जाएगा।
  • रात में ग्लिसरीन, नींबू का रस, ऑलिव ऑयल तथा गुलाब जल के मिश्रण से पैरों की मालिश करें तथा एड़ियों पर वैसलीन की मसाज करें।
  • 15 दिनों में एक बार पैडीक्योर स्वयं करें या पार्लर में करायें।
  • यदि इतना करने पर भी एड़ियां फटें तो फटी एड़ियों में वैसलीन भरें, ऊपर से सूती मोजे पहनें। हेयर ड्रायर से कुछ देर सिंकाई करें। फिर मोजे उतार कर मालिश करें। फालतू वैसलीन पोंछ दें। जब तक एड़ियां ठीक न हो जाएं ऐसा करती रहें।
  • एक बड़ा चम्मच करौंदे के रस में एक चम्मच मिल्क पाउडर मिलायें। एड़ियों पर लगायें, सूखने पर धो दें। फिर ऑलिव ऑयल या बादाम के तेल से मसाज करें।
  • आधा कप मोम में आधा कप सरसों का तेल मिलायें। मोम पिघलने तक पकायें। खूब अच्छी तरह फेंटें। रात में सोने से पहले थोड़ी-थोड़ी फटी एडियों में भर कर मसाज करें।
  • शकरकन्द को उबालने के पश्चात बचे पानी से फटी हुई एडियां धोने से वह ठीक होती हैं।
  • बहुत अधिक सर्दियों में अक्सर संवेदनशील त्वचा वालों के पैर में सूजन तथा लालिमा आ जाती है, उससे निजात पाने के लिए दो बाल्टियों में गर्म व ठंडा पानी अलगअलग रखें। एक-एक मुट्ठी नमक डालें। 5 मिनट ठंडे पानी में तथा 5 मिनट गर्म पानी में पैरों को डुबोएं। ऐसा करने से पैरों को आराम भी मिलेगा तथा सूजन भी कम होगी। पैरों को पोंछ कर तेल लगायें। यदि उंगलियों के बीच में घाव हों तो सरसों का तेल नियमित रूप से लगायें।

इन बातों का रखे ध्यान :

पैरों की देखभाल के लिए किन-किन खास बातों का ध्यान रखना चाहिए, आइए जानते हैं-

  1. अपने पैरों की नियमित सफाई करें।
  2. पैरों की एक्सरसाइज़ करें। टहलना पैरों के लिए अच्छी एक्सरसाइज़ है।
  3. जब आप दिन भर की थकान के बाद घर आती हैं, तो अपने पैरों को क्रमशः गरम और ठण्डे पानी में डुबोएँ, इस पानी में थोड़ा नमक डाल लें।
  4. यदि आपके पैरों में खुजली हो रही है, तो उस स्थान पर थोड़ा नींबू और सिरका लगायें।
  5. जूते या सैण्डिल खरीदते समय सावधानी बरतें। इनका आरामदेह होना सबसे महत्त्वपूर्ण है। ऐसे फुटवियर लें, जो नाप में सही हों और जो पैरों पर दबाव न डालें।
  6. सुबह के समय ख़ाली पैर घास पर घूमना चाहिए।
  7. पैरों और एड़ियों पर नियमित रूप से माश्चराइज़र का प्रयोग करें। इससे त्वचा नहीं फटती।

फटी एड़ियों की समस्या :

जाड़े के दिनों में एड़ियों का फटना एक आम समस्या है। त्वचा रूखी होने से एड़ियाँ फटने लगती हैं। एड़ियों के किनारे की स्किन (त्वचा) कड़ी हो जाती है। उसका रंग गहरा अथवा पीला हो जाता है। दरारें गहरी हों, तो चलते वक्त तेज़ दर्द भी होता है। खून भी बह सकता है। कई दफ़ा इसमें खुजली भी होने लगती है।

कारण –

  • ड्राई स्किन (खुश्क त्वचा)
  • निष्क्रिय स्वेद ग्रन्थियाँ
  • बहुत देर तक खड़े रहना
  • मोटापा
  • ओपन बैक वाले फुटवियर पहनना
  • फ्लैट फीट
  • थायराइड की बीमारी
  • डाइबिटीज़

उपचार –

  1. अपने पैरों को हलके गरम पानी में डुबोएँ और फिर प्यूमिस स्टोन या फुट स्क्रब की सहायता से डेड स्किन हटायें। इससे एड़ियाँ मुलायम बनेंगी। अब पैरों को धोकर हल्दी, शहद, मेथी , अदरक जैसे कुदरती तत्त्वों से युक्त फुटकेयर क्रीम या स्पेशल क्रैक्ड हील क्रीम लगायें। कोई अच्छा माश्चराइज़र या वैसलीन भी लगा सकती है। क्रीम लगाने के बाद मोजे पहन लें।
  2. नारियल का तेल गरम करें। इसमें कुछ वैक्स मिलायें और ठण्डा होने दें। अब इसे एड़ियों पर लगायें।
  3. 30 ग्राम पैराफिन वैक्स में 100 ग्राम मस्टर्ड आयल व चुटकी भर हल्दी मिलायें। इस मिश्रण को आग पर गरम कर अच्छी तरह से मिला दें। ठण्डा होने पर रात में एड़ियों में लगायें और सुबह धो दें। 10-15 दिनों में असर दिखने लगेगा।

गन्दे नाखूनों की सफाई :

वैसे तो नाखूनों की सफाई हर मौसम में करनी चाहिए। लेकिन बारिश के दिनों में बारिश के कीचड़ से फुटवियर्स गन्दे हो जाते हैं और मैल नाखूनों में घुस जाता है। नाखूनों को साफ और ट्रिम करें तथा किनारों को नेल फाइलर से घिसकर उन्हें ‘यू’ शेप दें।

ट्रेण्डी लुक :

पैरों को साफ़ रखने के साथ ही इनकी खूबसूरती बढ़ाने के लिए नेल्स (नाखूनों) पर ड्रैस (परिधान) से मैच करता (मिलता) हुआ नेलपॉलिश लगायें। फैशन के मुताबिक आप पायल व बिछिया पहन सकती हैं।

Leave a Comment