ब्यूटी टिप्स : चेहरे की सुंदरता बढ़ाने के घरेलू नुस्खे और उपाय

घरेलू सौंदर्य प्रसाधनों से चेहरे की सुन्दरता बढ़ाने के उपाय : Chehre ki Sundarta Badhane ke Upay

(1). गुलाब के फूल की नरम पंखुड़ियों को कच्चे दूध में डाल कर आधा घंटा रखें, फिर पीस कर पूरे चेहरे और होठों पर लेप कर लें। आधा घंटा बाद ठंडे पानी से धो डालें।

(2). पके हुए पपीते का गूदा मसल कर चेहरे पर लगाएं और सूखने पर ठंडे पानी से धो डालें ।

(3). आलू और खीरे को बारीक काट कर पीस लें और चेहरे पर लेप करें। विशेषकर आंखों के नीचे लगा कर अंगुलियों से थोड़ी देर तक हल्के-हल्के मलें । सूखने पर ठंडे पानी से धोकर हाथों पर 10-12 बूंद गलाब जल लेकर चेहरे पर लगालें। मुंहासों के दाग और आंखों के आसपास के काले घेरे दूर करने के लिए यह उत्तम प्रयोग है।

(4). 1 चम्मच चंदन का बुरादा और 1 चम्मच जौ का आटा सूती रूमाल में रख कर पोटली बना लें। इस पोटली को कच्चे दूध में डुबो कर पूरे चेहरे पर थोड़ा रगड़ते हुए घुमाएं। यह प्रयोग चेहरे की धूल, चिकनाई, तैलीय चमक और झाई को दूर कर नई चमक पैदा करता है।

(5). पके टमाटर को पीसकर रस निकाल लें और सोयाबीन के आटे में मिलाकर गाढ़ा लेप (Paste) तैयार कर लें। इसे एक दिन छोड़कर चेहरे पर लगा कर सूखने पर धो डालें। चेचक के हल्के दाग इस प्रयोग से मिट जाते हैं।

(6). पालक के पत्तों को धोकर आधे कप पानी में पका कर पीस लें और निचोड़ लें। इस रस में बेसन मिलाकर गाढ़ा उबटन तैयार कर लें। यह उबटन लगाकर मसल कर छुड़ा लें और स्नान कर लें। पूरे शरीर की त्वचा में नई जान फूंककर चमक पैदा करने वाला यह अद्भुत प्रयोग है।

मुल्तानी मिट्टी – चेहरे पर निखार लाने के natural तरीके

यदि हमें जानकारी हो तो हम मिट्टी का प्रयोग करके भी लाभ उठा सकते हैं। आयुर्वेद ने ठीक ही कहा है कि संसार का कोई भी पदार्थ ऐसा नहीं जो औषधि के गुण न रखता हो । यह बात अलग है कि हमें उन गुणों और प्रयोग विधि का ज्ञान न हो। लीजिए, सौंदर्य प्रसाधन के रूप में उपयोगी मुलतानी मिट्टी के कुछ प्रयोग प्रस्तुत हैं।

शरीर की त्वचा तैलीय, रुखी या सामान्य तीन प्रकार की होती है। तीनों प्रकार की त्वचा के लिए अलग-अलग ढंग से मुलतानी मिट्टी का प्रयोग किया जाता है।

तैलीय त्वचा :- 1 चम्मच मिट्टी चूर्ण, लेक्टो-केलोमिन चौथाई चम्मच और चंदन बुरादा चौथाई चम्मच। नीम के साबुन से स्नान कर इन तीनों को मिलाकर शरीर पर उबटन की तरह लगा लें और फिर से शरीर को पानी से धो डालें।

रुखी त्वचा :- त्वचा रुखी रहती हो तो यह प्रयोग करें- मुलतानी मिट्टी 1 चम्मच, चंदन बुरादा चौथाई चम्मच, मौसम ठंडा हो तो बादाम का तेल 4 से 5 बूंद, गर्मी हो तो 1 चम्मच दही व 2-4 बूंद नींबू का रस । स्नान के दौरान पहले एक बार पूरा शरीर धो लें, फिर इस लेप को लगा कर मसल-मसल कर धो डालें।

सामान्य त्वचा :- इस प्रकार की त्वचा के लिए किसी उपाय की जरूरत तो नहीं, फिर भी प्रयोग करना अच्छा ही रहेगा।मुलतानी मिट्टी 1 चम्मच, चंदन बुरादा और गुलाब जल आधा-आधा चम्मच और पाव चम्मच नींबू का रस, सबको मिलाकर सारे शरीर पर लेप करके स्नान करें।

रोजाना न भी हो तो भी हफ्ते में 2-3 बार ये उपाय साबुन की जगह प्रयोग करना ही चाहिए । इन प्रयोगों से त्वचा स्वस्थ, चिकनी चमकदार और सुगंधित रहती है । एक बार करके तो देखिए!

दूध के प्रयोग से पायें सुन्दरता और निखरा चेहरा :

त्वचा को स्निग्ध, कांतिपूर्ण, स्वच्छ और मुलायम रखने में दूध बहुत उपयोगी एवं गुणकारी होता है। इसके कुछ परीक्षित प्रयोग प्रस्तुत है –

चेहरे पर चमक लाने का घरेलू उपाय है सिरका-मलाई मास्क

एक कप दूध में 1 चम्मच सिरका और 1 चम्मच मलाई मिला लें। चेहरे और शरीर पर इसका लेप करके घंटे भर बाद गुनगुने पानी से धो डालें। स्नान के घंटे भर पहले भी यह प्रयोग कर सकती हैं। कुछ ही दिनों में त्वचा चमकदार और चिकनी हो जाएगी।

नेचुरल सुंदरता बढ़ाने का बहुत ही सरल उपाय – कान्तिलेप

सफेद चंदन का महीन बूरा, मूली के बीज, गुलाब के फूल की पंखुड़ियां, मसूर की दाल पिसी हुई, संतरे के सूखे छिल्कों का चूर्ण और चिरौंजी- सब 50-50 ग्राम । सबको कूट पीस कर मिला लें और एक डिब्बे में भर कर रख लें।
एक कप दूध (गाय का दूध हो तो अधिक अच्छा) में दो चम्मच पाउडर डाल कर थोड़ी देर गलने दें, फिर इसे मुंह, हाथ, पैर अथवा पूरे शरीर पर लगाकर 20-25 मिनट बाद गुनगुने पानी से धो डालें और मोटे तौलिये से खूब रगड़-रगड़ कर पोंछ लें। इसे सुबह शाम भी प्रयोग कर सकती है। यह कितना गुणकारी प्रयोग है यह स्वयं करके देखलें।

चेहरे को सुंदर बनाना है तो अपनाए ये 5 उपाय : Beauty tips for glowing skin in Hindi

बाजार के कृत्रिम और महंगे सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग न करके प्राकृतिक द्रव्यों का उपयोग करना निरापद भी रहता है और लाभकारी भी, सस्ता तो खैर होता ही है। ऐसे ही कुछ अनुभूत उपाय प्रस्तुत हैं, जो अनुभव में बहुत गुणकारी सिद्ध हुए हैं –

(1). चावल के महीन आटे में नींबू का रस मिलाकर स्नान से पहले, चेहरे तथा अन्य अंगों पर लेप करके 10-15 मिनट तक लगा रहने दें, फिर स्नान करें। यह त्वचा का रंग साफ करने वाला उत्तम उपाय है।

(2). रात को सोते समय 1 चम्मच मलाई में 2 बूंद नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लेप करें और मल डालें। सुबह धो डालें और 15 दिन में ही चमत्कार देख लें।

(3). संतरे के छिलके छाया में सूखा कर कूट पीस लें। एक चम्मच यह चूर्ण और 10-12 तुलसी की पत्ती पीस कर थोड़ा दूध मिला लें और गाढ़ा लेप बनाकर चेहरे पर लगाकर मल लें। यह प्रयोग शाम को सोते समय करें और घंटे भर बाद गुनगुने पानी से धोकर पोंछ लें। यह उपाय त्वचा को स्वच्छ कर निखार पैदा करता है।

(4). खीरे का रस त्वचा के लिए अमृत है। इस रस को चेहरे पर लगा 5-7 मिनट मालिश करें । प्रतिदिन यह उपाय करने पर त्वचा की झुर्रियां खत्म हो जाती है।

(5). चेहरे पर मुंहासे होते हों तो हरी शाक सब्जी का अधिक सेवन करें, कब्ज न रहने दें, सुबह-शाम शौच अवश्य जाएं और जायफल तथा छुहारे की गुठली, बराबर-बराबर बार पत्थर पर, पानी के साथ घिस कर मुहासों पर सोते समय लगा लिया करें। थोड़े दिन में मुंहासे ठीक हो जाएंगे और नये मुंहासे नहीं निकलेंगे। यह प्रयोग 2-3 सप्ताह तक करें।

प्राकृतिक तरीकों से दाग-मुंहासे हटाने के टिप्स : Chehre ke Daag Hatane ke Upay

  • एक कप दूध में 1 चम्मच सिरका और 1 चम्मच तुलसी के पत्तों का रस डाल कर मिला लें और साफ रुई से इसे चेहरे पर लगाएं। इससे चेहरे के दाग दूर हो जाते हैं।
  • 4 चम्मच दूध और 2 चम्मच चिरौंजी एक साथ पीस कर, इसका लेप सोते समय चेहरे पर लगाने से कुछ ही दिनों में मुंहासे ठीक हो जाते हैं। पेट साफ रखें और कब्ज न होने दें।
  • चेहरे की त्वचा पर झाइयां हो जाएं तो 2 चम्मच मलाई मिला लें। इसका गाढ़ा लेप चेहरे पर लगा कर मलने से कुछ दिनों में चेहरा साफ हो जाता है।

चेचक के दाग हटाने के उपाय : Chechak ke Daag Hatane ke Upay

दरहर की दाल, खीरे का रस, दूध, गुलाबजल- सब 1-1 चम्मच, 1 चुटकी हल्दी, 4-5 बूंद नीबू का रस और 5 बूंद ग्लिसरीन । अरहर की दाल पानी में गला कर पीस लें और शेष सब चीजें इसमें मिलाकर गाढ़ा-गाढ़ा चेहरे पर लगाएं । जब सूखने लगे तब हल्के गर्म पानी से धोकर पोंछ लें। धीरे-धीरे चेचक के दाग मिटते जाएंगे।

सफेद दाग हटाने का अनुभूत नुस्खा : Safed Daag Hatane ke Upay

एक प्रयोग सफेद दाग दूर करने के लिए सफल सिद्ध हुआ है। शुरू-शुरू की स्थिति में तो यह शर्तिया फायदा करता है।
जमीन की जिस मिट्टी में केंचुए रहते हैं उस मिट्टी को ले आएं । यह मिट्टी नदी-तालाब के किनारे आसानी से उपलब्ध रहती है। इसी मिट्टी को पीस कर बारीक कर लें। इस मिट्टी में छोटी हरड़ का चूर्ण, सफेद चंदन का महीन बुरादा और मलाई – तीनों 1-1 चम्मच और इन तीनों के बराबर वजन में केचुएं वाली मिट्टी महीन करके मिला लें। इस लेप को सफेद दाग वाली जगह पर प्रतिदिन लगाएं । सफेद दाग धीरे-धीरे मिटने लगेंगे और सफेद दाग वाली चमड़ी का रंगस्वाभाविक रंग में परिवर्तित हो जाएगा।

(दवा ,उपाय व नुस्खों को वैद्यकीय सलाहनुसार उपयोग करें)

Leave a Comment